ऊतकों का अध्ययन जीव विज्ञान की जिस शाखा के अन्दर आती हैं उसे औतिकी (Hitology) कहते हैं। इटली के वैज्ञानिक मार्सेलो मैल्पिथी भौतिकी के संस्थापक  हैं, Histology नाम, मायर ने दिया तथा ‘ऊतक’ शब्द का प्रयोग ‘विचट’ ने सर्वप्रथम किया।

सामान्य परिचय

सभी जीवित प्राणी या पौधे कोशिकाओं के बने होते हैं। एक कोशिकीय जीवों में, सभी मौलिक कार्य एक ही कोशिका द्वारा किए जाते हैं। उदाहरण के लिए, अमीबा में एक ही कोशिका द्वारा गति, भोजन लेने की क्रिया, श्वसन क्रिया और उत्सर्जन क्रिया संपन्न की जाती है। लेकिन बहुकोशिकीय जीवों में लाखों कोशिकाएँ होती हैं। इनमें से अधिकतर कोशिकाएँ कुछ ही कार्यों को संपन्न करने में सक्षम होती हैं। प्रत्येक विशेष कार्य कोशिकाओं के विभिन्न समूहों द्वारा किया जाता है। कोशिकाओं के ये समूह एक विशिष्ट कार्य को ही अति दक्षता पूर्व संपन्न करने के लिए सक्षम होते हैं। मनुष्यों में, पेशीय कोशिका फैलती और सिकुड़ती है, जिससे गति होती है, तंत्रिका कोशिकाएँ संदेशों की वाहक होती हैं; रक्त, ऑक्सीजन, भोजन, हॉर्मोन और अपशिष्ट पदार्थों का वहन करता है। पौधों में, वाहक नलियों से संबंधित कोशिकाएँ भोजन और पानी को एक जगह से दूसरी जगह ले जाती हैं। अत: बहुकोशिका जीवों में श्रम विभाजन होता है। शरीर के अंदर ऐसी कोशिकाएँ जो एक तरह के कार्य को संपन्न करने में दक्ष होती हैं, सदैव एक समूह में होती हैं। इससे ज्ञात होता है कि शरीर के अंदर एक निश्चित कार्य एक निश्चित जगह  पर कोशिकाओं के एक विशिष्ट ग्रुप द्वारा संपन्न किया जाता है। कोशिकाओं का यह ग्रुप ऊतक कहलाता है। ये ऊतक अधिकतम दक्षता के साथ कम  कर सकने के लिए एक विशिष्ट क्रम में व्यवस्थित होते हैं। रक्त, फ्लोएम तथा पेशी ऊतक के उदाहरण हैं।

वे कोशिकाएँ, जो आकर  में एक समान होती हैं तथा किसी कार्य को एक साथ पूरा  करती हैं, ग्रुप में एक ऊतक का निर्माण करती हैं।

पादप ऊतक

पौधों में वृद्धि कुछ निश्चित क्षेत्रों में ही होती है। ऐसा विभाजित ऊतकों के उन खंड में पाए जाने के कारण होता है। ऐसे ऊतकों को विभज्योतक भी कहा जाता है। ये विभज्योतक किस भाग में स्थित हैं, विभज्योतक की उपस्थिति वाले क्षेत्रों के आधार पर इन्हें शीर्षस्थ, कैबियम (पाश्र्वीय) तथा अंतर्विष्ट भागों में वर्गीकृत किया जाता है। विभज्योतक के द्वारा तैयार नई कोशिकाएँ प्रारंभ में विभज्योतक की तरह होती हैं, लेकिन जैसी ही ये बढ़ती और परिपक्व होती हैं, इनके गुणों में धीरे-धीरे बदलाव होता है और ये दूसरे ऊतकों के घटकों के रूप में विभाजित हो जाती है।

प्ररोह के शीर्षस्थ विभज्योतक जड़ों एवं तनों की वृद्धि वाले भाग में विद्यमान रहता है तथा वह इनकी लंबाई में वृद्धि करता है। तने की परिधि या जड़ में वृद्धि पाश्र्व विभज्योतक के कारण होती है। अंतर्विष्ट विभज्योतक पत्तियों के आधार में या टहनी के पर्व के दोनों ओर उपस्थित होते हैं।

इस ऊतक की कोशिकाएँ अत्यधिक क्रियाशील होती हैं, उनको पास बहुत अधिक कोशिकाद्रव्य, पतली कोशिका भित्ति और स्पष्ट केंद्रक होते हैं। उनके पास रसधानी नहीं होती है।

स्थायी ऊतक

विभज्योतक द्वारा बनी कोशिकाओं का क्या होता है? ये एक विशेष कार्य करती हैं और विभाजित होने की शक्ति को खो देती हैं, जिसके फलस्वरूप वे स्थायी ऊतक का निर्माण करती हैं। इस प्रकार एक विशेष  कार्य करने के लिए स्थायी रूप और आकार लेने की क्रिया को विभेदीकरण कहते हैं। विभज्योतक की कोशिकाएँ परिवर्तन होकर विभिन्न प्रकार के स्थायी ऊतकों का निर्माण करती हैं।

सरल स्थायी ऊतक

कोशिकाओं की कुछ परतें ऊतक के आधारीय पैकिंग का निर्माण करती हैं। इन्हीं पैरेन्काइमा ऊतक कहते हैं, जो स्थायी ऊतक का एक रूप है। यह पतली कोशिका भित्ति वाली सरल कोशिकाओं का बना होता है। ये कोशिकाएँ जीवित हैं। ये प्राय: बंधन मुक्त होती हैं तथा इस प्रकार के ऊतक की कोशिकाओं के बीच में काफी रिक्त स्थान पाया जाता है। यह ऊतक पौधे को सहायता प्रदान करता है। कुछ पैरेन्काइमा ऊतकों में क्लोरोफिल पाया जाता है, जिसके कारण प्रकाश संश्लेषण की क्रिया पूर्ण होती है। कुछ स्थितियों में इन ऊतकों को हरित ऊतक कहा जाता है। जलीय पौधों में पैरेन्काइमा की कोशिकाओं के मध्य हवा की बड़ी गुहिकाएँ होती हैं, जो पौधों को तैरने के लिए उत्प्लावन बल प्रदान करती हैं। इस प्रकार के पैरेन्काइमा को ऐरेन्काइमा कहते हैं। तनें और जड़ों के पैरेन्काइमा पोषण करने वाले पदार्थ और जल को भी संग्रह करते हैं। प्रौधों में लचीलेपन का गुण एक अन्य स्थायी ऊतक, कॉलेन्काइमा के कारण होता है। यह पौधों के विभिन्न भागों (पत्ती, तना) में बिना टूटे हुए लचीलापन लाता है। यह पौधों को यांत्रिक सहायता भी प्रदान करता हैं हम इस ऊतक को एपिडर्मिस के नीचे पर्णवृत में पा सकते हैं। इस ऊतक की कोशिकाएँ जीवित, लंबी और अनियमित ढंग से कोनों पर मोटी होती हैं तथा कोशिकाओं के बीच बहुत कम स्थान होता है।

एक अन्य प्रकार का ऊतक स्क्लेरेन्काइमा होता है। यह ऊतक पौधे को कठोर एवं मजबूत बनाता है। हमने नारियल के रेशेयुक्त छिलके को देखा है। यह स्क्लेरेन्काइमा ऊतक से बना होता है। इस ऊतक की कोशिकाएँ मृत होती हैं। ये लंबी और पतली होती हैं क्योंकि इस ऊतक की भित्ति लिग्निन के कारण मोटी होती है। (लिग्निन कोशिकाओं को दृढ़ बनाने के लिए सीमेंट का कार्य करने वाला एक रासायनिक पदार्थ है)। ये भित्तियाँ प्राय: इतनी मोटी होती हैं कि कोशिका के भीतर कोई आंतरिक स्थान नहीं होता है। यह ऊतक तने में, संवहन बंडल के समीप, पत्तों की शिराओं में तथा बीजों और फलों के कठोर छिलक में उपस्थित होता है। यह पौधों के भागों को मजबूती प्रदान करता है।

जटिल स्थायी ऊतक

अब तक हम एक ही प्रकार की कोशिकाओं से बने हुए भिन्न-भिन्न प्रकार के ऊतकों पर विचार कर चुके हैं, जो कि एक ही तरह के दिखाई देते हैं। ऐसे ऊतकों को साधारण स्थायी ऊतक कहते हैं। अन्य प्रकार के स्थायी ऊतक को जटिल ऊतक कहते हैं। जटिल ऊतक एक से अधिक प्रकार की कोशिकाओं से मिलकर बने होते हैं और ये सभी एक साथ मिलकर एक इकाई की तरह कार्य करते हैं। जाइलम और फ्लोएम, इसी प्रकार के जटिल ऊतकों के उदाहरण हैं।

 

इन दोनों को संवहन ऊतक भी कहते हैं और ये मिलकर संवहन बंडल का निर्माण करते हैं। यह ऊतक बड़े पौधों की एक विशेषता है, जो कि उनको स्थलीय वातावरण में रहने के अनुकूल बनाती है।

जाइलम ट्रैकीड् (वाहिनिका), वाहिका, जाइलम पैरेन्काइमा और जाइलम फाइबर (रेशे) से मिलकर बना होता है। इन कोशिकाओं की कोशिका भित्ति मोटी होती है और इनमें से अधिकतर कोशिकाएँ मृत होती हैं। ट्रैकीड् और वाहिकाओं की संरचना नलिकाकार होती है। इनके द्वारा पानी और खनिज लवण का उर्ध्वाधर संवहन होता है। पैरेन्काइमा भोजन का संग्रह करता है और यह किनारे की ओर पानी के पाश्वीय संवहन में सहायता करता है। फाइबर (रेशे) मुख्यत: सहारा देने का कार्य करते हैं।

फ्लोएम चार प्रकार के अवयवों: चालनी नलिका, साथी कोशिकाएँ, फ्लोएम पैरेन्काइमा तथा फ्लोएम रेशों से मिलकर बना होता है। चालनी नलिका, छिद्रित भित्ति वाली तथा नलिकाकार कोशिका होती है। फ्लोएम, जाइलम के असमान पदार्थों को कोशिकाओं में दोनों दिशाओं में गति करा सकते हैं। फ्लोएम पत्तियों से भोजन को पौधे के विभिन्न भागों तक पहुँचाता है। फ्लोएम रेशों को छोड़कर, फ्लोएम कोशिकाएँ जीवित कोशिकाएँ हैं।

जंतु ऊतक

जब हम साँस लेते हैं तब हम अपनी छाती की गति को महसूस कर सकते हैं। शरीर के ये अंग कैसे गति करते हैं। इसके लिए हमारे पास कुछ विशेष कोशिकाएँ होती हैं, जिन्हें हम पेशीय कोशिकाएँ कहते हैं। इन कोशिकाओं का फैलना और सिकुड़ना अंगों को गति प्रदान करता है।

साँस लेते समय हम ऑक्सीजन लेते हैं। यह ऑक्सीजन कहाँ जाती है? यह फेफड़ों के द्वारा अवशोषित की जाती है तथा रक्त के साथ शरीर की सभी कोशिकाओं तक पहुँचा जाती है। कोशिकाओं को ऑक्सीजन की आवश्यकता क्यों होती है? माइटोकॉन्ड्रिया का कार्य इन प्रश्न के हल के लिए एक संकेत देता है। रक्त अपने साथ विभिन्न पदार्थों को शरीर में एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाता है। उदाहरण के लिए यह भोजन और ऑक्सीजन को सभी कोशिकाओं तक पहुँचाता है। यह शरीर के सभी भागों में अपशिष्ट पदार्थों को एकत्र कर यकृत तथा वृक्क तक उत्सर्जन के लिए पहुँचाता है।

रक्त और पेशियाँ दोनों ही हमारे शरीर में पाए जाने वाले ऊतक के उदाहरण हैं। उनके काम के आधार पर हम विभिन्न प्रकार के जंतु ऊतकों के बारे में विचार कर सकते हैं जैसे कि एपिथीलियमी ऊतक, संयोजी ऊतक, पेशीय ऊतक तथा तंत्रिका ऊतक। रक्त, संयोजी ऊतक का एक प्रकार है तथा पेशी, ऊतक का।

एपिथीलियमी ऊतक

 

जंतु के शरीर को ढकने या बाह्य रक्षा प्रदान करने वाले ऊतक एपिथीलियमी ऊतक हैं। एपिथीलियम शरीर के अंदर स्थित बहुत से अंगों और गुहिकाओं को ढकने का काम करता  हैं। ये अलग -अलग प्रकार के शारीरिक तंत्रों को एक-दूसरे से अलग करने के लिए अवरोध का निर्माण करते हैं। त्वचा, मुँह, आहारनली, रक्त वाहिनी नली का अस्तर, फेफड़ों की कृपिका, वृक्कीय नली आदि सभी एपिथोलियमी ऊतक से बने होते हैं। एपिथीलियमी ऊतक की कोशिकाएँ एक-दूसरे सटी होती हैं और ये एक अनवरत परत का निर्माण करती हैं। इन परतों के बीच चिपकाने वाले पदार्थ कम होते हैं तथा कोशिकाओं के बीच बहुत कम स्थान होता है। स्पष्टत: जो भी पदार्थ शरीर में प्रवेश करता है या बाहर निकलता है, वह एपिथीलियम की किसी परत से होकर अवश्य गुजरता है। इसके फलस्वरूप विभिन्न प्रकार की एपिथीलियम कोशिकाओं के बीच की पारगम्यता शरीर तथा बाहरी वातावरण और शरीर के विभिन्न अंगों के बीच पदार्थों के आदान-प्रदान में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। सामान्यत: सभी एपिथीलियम को एक बाह्य रेशेदार आधार झिल्ली उसे नीचे रहने वाले ऊतकों से अलग करती है।

संयोजी ऊतक

रक्त एक प्रकार का संयोजी ऊतक है। संयोजी ऊतक की कोशिकाएँ आपस में कम जुड़ी होती हैं और अंतरकोशिकीय आधात्री में धैसी होती हैं। यह आधात्री जैली की तरह, तरल, सघन या कठोर हो सकती है। आधात्री की प्रकृति, विशेष संयोजी ऊतक के कार्य के अनुसार बदलती रहती है।

रक्त के तरल आधात्री भाग को प्लाज्मा कहते हैं, प्लाज्मा में RBC, श्वेत रक्त कोशिकाएँ तथा प्लेटलेट्स निलंबित होते हैं। प्लाज्मा में प्रोटीन, नमक तथा हॉर्मोन भी होते हैं। रक्त गैसों, शरीर के पचे हुए भोजन, हॉर्मोन और उत्सर्जी पदार्थों का शरीर के एक भाग से दूसरे भाग में संवहन करता है।

अस्थि संयोजी ऊतक का एक और उदाहरण है। यह पंजर का निर्माण कर शरीर को आकार प्रदान करती है। यह मांसपेशियों को सहायता देती है और शरीर के मुख्य अंगों को सहायता देती है। यह ऊतक मजबूत और कठोर होता है। (अस्थि कार्यों के लिए इन गुणों के क्या उपयोग हैं)। अस्थि कोशिकाएँ कठोर आधात्री में धैसी होती हैं, जो कैल्सियम तथा फॉस्फोरस से बनी होती हैं।

दो अस्थियाँ आपस में एक-दूसरे से, एक अन्य संयोजी ऊतक जिसे स्नायु (अस्थि बंधान तंतु) कहते हैं, से जुड़ी होती हैं। यह ऊतक बहुत लचीला एवं मजबूत होता है। स्नायु में बहुत कम आधात्री होती है। एक अन्य प्रकार का संयोजी ऊतक कंडरा है, जो मांसपेशियों को अस्थियों से जोड़ता है। कंडरा मजबूत तथा सीमित लचीलेपन वाले रेशेदार ऊतक होते हैं। उपास्थि एक अन्य प्रकार का संयोजी ऊतक होता है, जिसमें कोशिकाओं के बीच पर्याप्त स्थान होता है। इसकी ठोस आधात्री प्रोटीन और शर्करा की बनी होती है। यह अस्थियों के जोड़ों को चिकना बनाती है। उपास्थि नाक, कान, कंठ और श्वास नली में भी उपस्थित होती है। हम कान की उपास्थि को मोड़ सकते हैं, परन्तु हाथ की अस्थि को नहीं। सोचिए, ये दो ऊतक किस प्रकार भिन्न हैं।

एरिओलर संयोजी ऊतक त्वचा और मांसपेशिओं के बीच, रक्त नलिका के चारों ओर तथा नसों और अस्थि मज्जा में पाया जाता है। यह अंगों के भीतर की खाली स्थान को भरता है, अन्दर के अंगों को सहारा प्रदान करता है और ऊतकों की मरम्मत में सहायता करता है।

 

हमारे शरीर में वसा कहाँ संचित होता है? वसा का संग्रह करने वाला वसामय ऊतक त्वचा के नीचे आतरिक अंगों के बीच पाया जाता है। इस ऊतक की कोशिकाएँ वसा की गोलिकाओं से भरी होती हैं। वसा संग्रहित होने के कारण यह ऊष्मीय कुचालक का कार्य भी करता है।

पेशीय ऊतक

 

लंबी कोशिकाओं का बना होता है, जिसे पेशीय रेशा भी कहा जाता है। यह हमारे शरीर में गति के लिए उत्तरदायी है। पेशियाँ में हमारे शरीर में गति के लिए उत्तरदायी है। पेशियों में एक विशेष प्रकार की प्रोटीन होती है, जिसे सिकुड़ने वाला प्रोटीन कहते हैं, जिसके संकुचन एवं प्रसार के कारण गति होती है।

 

कुछ पेशियों की हम इच्छानुसार गति करा सकते हैं। हाथ और पैर में विद्यमान पेशियों को हम अपनी इच्छानुसार आवश्यकता पड़ने पर गति करा सकते हैं या उनकी गति को रोक सकते हैं। इस तरह की पेशियों को ऐच्छिक पेशी कहा जाता है। इन पेशियों को कंकाल पेशी भी कहा जाता है क्योंकि ये अधिकतर हड्डियों से जुड़ी होती हैं तथा शारीरिक गति में सहायक होती हैं। सूक्ष्मदर्शी से देखने पर ये पेशियाँ हलक तथा गहरे रंगों में एक के बाद एक रेखाओं या धारियों की तरह प्रतीत होती हैं। इसी कारण इसे रेखित पेशी भी कहते हैं। इस ऊतक की कोशिकाएँ लंबी, बेलनाकार, शाखारहित और बहुनाभिकीय होती हैं।

 

आहारनली में भोजन का प्रवाह या रक्त नलिका का प्रसार एवं संकुचन जैसी गतियाँ ऐच्छिक नहीं हैं। इन गतिविधियों को हम इच्छानुसार प्रारंभ या बंद नहीं कर सकते हैं। चिकनी पेशियाँ अथवा अनैच्छिक पेशियाँ इनकी गति को नियंत्रित करती हैं। ये आँख की पलक, मूत्रवाहिनी और फेफड़ों की श्वसनी में भी पाया जाता है। कोशिकाएँ लंबी और इनका आखिरी सिरा नुकीला होता है। ये एक-केंद्रकीय होती हैं। इनको अरेखित पेशी भी कहा जाता है।

 

हृदय की पेशियाँ जीवनभर लयबद्ध होकर प्रसार एंव संकुचन करती रहती हैं। इन अनैच्छिक पेशियों को कार्डियक (हृदयक) पेशी कहा जाता है। हृदय की पेशी कोशिकाएँ बेलनाकार, शाखाओं वाली और एक-केंद्रकीय होती हैं।

तंत्रिका ऊतक

सभी कोशिकाओं में उत्तेजना के अनुकूल प्रतिक्रिया करने की क्षमता होती है। तथापि, तंत्रिका ऊतक की कोशिकाएँ बहुत शीघ्र उत्तेजित होती हैं और इस उत्तेजना को बहुत ही शीघ्र पूरे शरीर में एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुँचाती हैं। मस्तिष्क, मेरुरज्जु तथा तंत्रिकाएँ, सभी तंत्रिका ऊतकों की बनी होती हैं। तंत्रिका ऊतक की कोशिकाओं को तंत्रिका कोशिका या न्यूरॉन कहा जाता है। न्यूरॉन में कोशिकाएँ कद्रक तथा कोशिकाद्रव्य (साइटोप्लाज्म) होते हैं। इससे लंबे, पतले बालों जैसी शाखाएँ निकली होती हैं। प्राय: प्रत्येक न्यूरॉन में इस तरह का एक लंबा प्रवर्ध होता है, जिसको एक्सॉन कहते हैं तथा बहुत सारे छोटी शाखा वाले प्रवर्ध (डेंडाइट्स) होते हैं। एक तंत्रिका कोशिका 1 मीटर तक लंबी हो सकती है। बहुत सारे तंत्रिका रेशे, संयोजी ऊतक के द्वारा एक साथ मिलकर एक तंत्रिका का निर्माण करते हैं।

तंत्रिका का स्पंदन हमें इच्छानुसार अपनी पेशियों की गति करने में सहायता करता है। तंत्रिका तथा पेशीय ऊतकों का कार्यात्मक संयोजन प्राय: सभी जीवों में मौलिक है। साथ ही, यह संयोजन उत्तेजना के अनुसार जंतुओं को तेज गति प्रदान करता है।

न्यूरॉन के प्रमुख भाग हैं

कोशिका काय (Cell Body or Cyton) जिसमें एक केन्द्रक तथा कोशिका द्रव्य होता है; इसमें निसिल्स कण (Nissils Granules) रहते हैं।

कोशिका-काय से न्यूरॉन के एक से अधिक निकले हुए पतले तंतु प्रवर्ध (Process) डेंड्राइटस कहलाते हैं। डेंड्राइट तंत्रिका कोशिका के दोनों ओर से निकलते हैं, इनमें निसिल्स कण पाये जाते हैं।

कोशिका-काय या साइटन से प्रारंभ होकर एक बहुत पतली एवं लम्बी तंत्रिका प्रक्रिया (Nerve Processess) मिलती है। यह एक न्यूरॉन से दूसरे न्यूरॉन तक संदेशवाहक का कार्य करता है जिसे एक्सॉन (AXON) कहते हैं।

एक कोशिका का डेन्ड्राइट, दूसरी तंत्रिका कोशिका के एक्सॉन से विशिष्ट बंधों द्वारा जुड़ी होती हैं ये बंध युग्मानुबंध (Synopse) कहलाते हैं।

तंत्रिका आवेग का संवहन

तंत्रिका-तंतु में से तंत्रिका-आवेग का संचरण विद्युत-रसायन (electro-chemical) विधि से होता है। यह संचरण उस प्रकार का नहीं होता जैसा किसी तार के भीतर से विद्युत-धारा के प्रवाहित होने में इलेक्ट्रानों का प्रवाह होता है, अपितु यह विध्रुवीकरण (depolarisation) की तरंग के रूप में चलता जाता है।

सामान्य (विश्रामी) अवस्था में तंत्रिका तंतु के बाहर की ओर धन चार्ज (+) बना होता है। उस अवस्था को ध्रुवीकृत (polarised) कहते हैं। यह ध्रुवीकरण बाहर की ओर Na+ आयनों की अधिक संख्या होने के कारण होता है। यह अवस्था इसलिए बनी रहती है क्योंकि आयनों को लगातार अंदर से बाहर की ओर को धकला जाता रहता अर्थात पंप किया जाता रहता है (सक्रिय अभिगमन, active transport)।

उत्तेजित होने पर (यांत्रिक, विद्युतीय, रासायनिक अथवा ऊष्मा आदि के उद्दीपन क द्वारा) उस स्थल पर ऐक्सॉन-झिल्ली Na आयनों के लिए अधिक पारगम्य हो जाती है और ये आयन भीतर को आने लगते हैं, जिससे वहां ध्रुवीकरण समाप्त हो जाता है (विध्रुवीकरण, depolarisation) इसके फलस्वरूप स्थानिक तौर पर झिल्ली के भीतर की दिशा धनात्मक (पॉज़िटिव) हो जाती है तथा बाहर की दिशा ऋणात्मक (नेगेटिव)।

अब विध्रुवीकरण का यह बिंदु झिल्ली के सहवर्ती क्षेत्र के लिए स्वयं एक उद्दीपन बन जाता है और अब यह अगला क्षेत्र ध्रुवीकृत हो जाता है।

इसी बीच पहला क्षेत्र पुनध्रुवीकृत (repolarised) हो जाता है क्योंकि एक सोडियम पोटैशियम पंप Na+ आयनों को सक्रिय अभिगमन के द्वारा पुन: झिल्ली के बाहर की ओर पहुँचा देता है।

वह छोटी अवधि (0.001-0.883 सेकंड) जो पुनध्रुवीकरण के लिए चाहिए, अनुतेजन अवधि (refractory period) कहलाती है, इस अवधि के दौरान तंतु के भीतर कोई अन्य आवेग संचारित नहीं हो सकता।

सिनैप्स के ऊपर से

सिनैप्स उस संपर्क बिंदु को कहते हैं, जो एक न्यूरॉन के एक्सॉन की अंत्य शाखाओं एवं दुसरे न्यूरॉन के डेंड्राइटों के बीच बनता है।

तंत्रिका तंतु में से गुजरता हुआ आवेग या तो अपने लक्ष्य (पेशी) में पहुंचता है जहाँ ऐक्सॉन की अंत्य शाखाएँ पेशी को उत्तेजित करती हैं, जिससे पेशी संकुचित होती है या वह एक अन्य न्यूरॉन के डेंड्राइटों के साथ बनने वाला मिलन बिंदु है, जो सिनैप्स (synapse) कहलाता है।

 

सिनैप्स के ऊपर से आवेग का संचरण एक रासायनिक प्रक्रिया होती है। जब कोई आवेग ऐक्सॉन के अंतिम सिरों पर पहुंचता है तब वहां से एक रसायन ऐसीटिल, कोलीन (acetyl choline) (अथवा ऐड्रीनलीन, adrenalinel) निकलता है जो आगे अगले न्यूरॉन के डेंड्राइटों में उत्तेजना पैदा करके वहाँ से एक नए आवेग की शुरूआत कर देता है। एक एंज़ाइम कोलीनेस्टरेज़ (cholinesterase) शीघ्र ही इस रसायन को विघटित कर देता है, जिससे सिनैप्स अगले संचरण के लिए पुनः तैयार हो जाता है।

Please Share Via ....

Related Posts

163 thoughts on “ऊतक और अंग Tissue and Organ ||

  1. Hi there this is somewhat of off topic but I was wondering if blogs use WYSIWYG editors or if you have to manually code with HTML. I’m starting a blog soon but have no coding skills so I wanted to get advice from someone with experience. Any help would be greatly appreciated!

  2. What i do not realize is in fact how you’re now not really a lot more smartly-appreciated than you may be right now. You are so intelligent. You know therefore significantly with regards to this topic, produced me in my opinion believe it from so many numerous angles. Its like men and women don’t seem to be fascinated unless it’s something to accomplish with Woman gaga! Your own stuffs great. Always take care of it up!

  3. Hi there, I found your website by the use of Google whilst searching for a similar matter, your site got here up, it seems to be good. I have bookmarked it in my google bookmarks.

  4. Hi this is kinda of off topic but I was wondering if blogs use WYSIWYG editors or if you have to manually code with HTML. I’m starting a blog soon but have no coding know-how so I wanted to get advice from someone with experience. Any help would be greatly appreciated!

  5. Thank you for some other informative website. Where else may just I am getting that kind of info written in such a perfect method? I have a venture that I am simply now running on, and I have been at the glance out for such information.

  6. Its like you read my mind! You seem to know so much about this, like you wrote the book in it or something. I think that you could do with some pics to drive the message home a bit, but other than that, this is magnificent blog. A great read. I’ll definitely be back.

  7. Simply wish to say your article is as astonishing. The clearness in your post is simply cool and i can assume you are an expert on this subject. Well with your permission allow me to grab your RSS feed to keep up to date with forthcoming post. Thanks a million and please continue the gratifying work.

  8. I am curious to find out what blog system you have been working with? I’m experiencing some minor security problems with my latest website and I would like to find something more safe. Do you have any solutions?

  9. Does your site have a contact page? I’m having a tough time locating it but, I’d like to send you an e-mail. I’ve got some suggestions for your blog you might be interested in hearing. Either way, great website and I look forward to seeing it develop over time.

  10. hey there and thank you for your information I’ve definitely picked up anything new from right here. I did however expertise a few technical issues using this site, since I experienced to reload the site many times previous to I could get it to load properly. I had been wondering if your web hosting is OK? Not that I am complaining, but sluggish loading instances times will often affect your placement in google and can damage your high quality score if advertising and marketing with Adwords. Anyway I’m adding this RSS to my e-mail and can look out for a lot more of your respective interesting content. Make sure you update this again soon.

  11. Awesome blog! Is your theme custom made or did you download it from somewhere? A design like yours with a few simple adjustements would really make my blog jump out. Please let me know where you got your design. With thanks

  12. I’m really enjoying the design and layout of your blog. It’s a very easy on the eyes which makes it much more enjoyable for me to come here and visit more often. Did you hire out a designer to create your theme? Exceptional work!

  13. Simply want to say your article is as astonishing. The clearness in your post is simply nice and i can assume you are an expert on this subject. Well with your permission allow me to grab your RSS feed to keep up to date with forthcoming post. Thanks a million and please continue the gratifying work.

  14. What’s Happening i’m new to this, I stumbled upon this I have found It positively helpful and it has helped me out loads. I am hoping to give a contribution & assist other users like its helped me. Good job.

  15. My programmer is trying to persuade me to move to .net from PHP. I have always disliked the idea because of the expenses. But he’s tryiong none the less. I’ve been using Movable-type on several websites for about a year and am anxious about switching to another platform. I have heard excellent things about blogengine.net. Is there a way I can transfer all my wordpress content into it? Any kind of help would be really appreciated!

  16. I am really loving the theme/design of your site. Do you ever run into any internet browser compatibility problems? A handful of my blog audience have complained about my blog not operating correctly in Explorer but looks great in Safari. Do you have any tips to help fix this issue?

  17. I believe what you postedtypedbelieve what you postedwrotesaidthink what you postedwrotebelieve what you postedwroteWhat you postedtyped was very logicala ton of sense. But, what about this?think about this, what if you were to write a killer headlinetitle?content?wrote a catchier title? I ain’t saying your content isn’t good.ain’t saying your content isn’t gooddon’t want to tell you how to run your blog, but what if you added a titlesomethingheadlinetitle that grabbed people’s attention?maybe get people’s attention?want more? I mean %BLOG_TITLE% is a little vanilla. You could look at Yahoo’s home page and watch how they createwrite post headlines to get viewers interested. You might add a related video or a pic or two to get readers interested about what you’ve written. Just my opinion, it could bring your postsblog a little livelier.

  18. Have you ever considered about including a little bit more than just your articles? I mean, what you say is fundamental and all. However think of if you added some great photos or video clips to give your posts more, “pop”! Your content is excellent but with images and video clips, this site could undeniably be one of the most beneficial in its niche. Wonderful blog!

  19. Unquestionably consider that that you stated. Your favourite justification appeared to be at the net the simplest thing to be aware of. I say to you, I definitely get irked whilst folks consider worries that they plainly do not understand about. You controlled to hit the nail upon the top as welland also defined out the whole thing with no need side effect , other folks can take a signal. Will likely be back to get more. Thank you

  20. Today, I went to the beachfront with my kids. I found a sea shell and gave it to my 4 year old daughter and said “You can hear the ocean if you put this to your ear.” She put the shell to her ear and screamed. There was a hermit crab inside and it pinched her ear. She never wants to go back! LoL I know this is completely off topic but I had to tell someone!

  21. Hi, i read your blog occasionally and i own a similar one and i was just wondering if you get a lot of spam feedback? If so how do you stop it, any plugin or anything you can advise? I get so much lately it’s driving me insane so any help is very much appreciated.

  22. Great article! This is the type of information that are meant to be shared around the internet. Disgrace on the seek engines for not positioning this publish upper! Come on over and seek advice from my web site . Thank you =)

  23. Thank you for some other informative web site. Where else may just I am getting that kind of info written in such a perfect means? I have a project that I am simply now operating on, and I have been at the glance out for such information.

  24. hi!,I really like your writing so much! percentage we keep up a correspondence more approximately your post on AOL? I need an expert in this area to solve my problem. May be that is you! Taking a look forward to see you.

  25. Хотите получить идеально ровный пол в своем доме или офисе? Обратитесь к профессионалам на сайте styazhka-pola24.ru! Мы предлагаем услуги по стяжке пола любой сложности и площади, а также устройству стяжки пола под ключ в Москве и области.

  26. Ищете надежного подрядчика для механизированной штукатурки стен в Москве? Обратитесь к нам на сайт mehanizirovannaya-shtukaturka-moscow.ru! Мы предлагаем услуги по оштукатуриванию стен механизированным способом любой сложности и площади, а также гарантируем высокое качество работ.

  27. Simply want to say your article is as amazing. The clearness in your publish is simply cool and i can think you are a professional in this subject. Well with your permission allow me to grab your RSS feed to stay up to date with forthcoming post. Thank you a million and please keep up the rewarding work.

  28. Thank you a bunch for sharing this with all folks you really understand what you are talking approximately! Bookmarked. Please also talk over with my site =). We may have a link exchange contract among us

  29. Wonderful website you have here but I was curious if you knew of any user discussion forums that cover the same topics talked about in this article? I’d really love to be a part of group where I can get advice from other knowledgeable individuals that share the same interest. If you have any recommendations, please let me know. Many thanks!

  30. Sweet blog! I found it while browsing on Yahoo News. Do you have any tips on how to get listed in Yahoo News? I’ve been trying for a while but I never seem to get there! Cheers

  31. First off I want to say terrific blog! I had a quick question that I’d like to ask if you don’t mind. I was curious to know how you center yourself and clear your thoughts before writing. I have had a tough time clearing my mind in getting my thoughts out. I do enjoy writing but it just seems like the first 10 to 15 minutes are wasted just trying to figure out how to begin. Any ideas or tips? Cheers!

  32. I must thank you for the efforts you have put in writing this website. I’m hoping to see the same high-grade blog posts from you in the future as well. In fact, your creative writing abilities has inspired me to get my very own website now 😉

  33. Лаки Джет 1win – лучший выбор для тех, кто ценит азарт и хочет зарабатывать на своей удаче. Лаки Джет краш на официальном сайте 1win удивит тебя мгновенными выигрышами и яркими эмоциями.

  34. I will right away seize your rss as I can’t in finding your email subscription hyperlink or e-newsletter service. Do you have any? Please allow me realize in order that I may subscribe. Thanks.

  35. Thank you, I’ve recently been searching for info approximately this topic for a long time and yours is the best I have came upon till now. However, what in regards to the conclusion? Are you sure concerning the supply?

  36. Unquestionably believe that which you stated. Your favorite justification appeared to be on the net the simplest thing to be aware of. I say to you, I definitely get irked while people consider worries that they plainly do not know about. You managed to hit the nail upon the top and also defined out the whole thing without having side effect , people can take a signal. Will likely be back to get more. Thanks

  37. This is a very good tip especially to those new to the blogosphere. Brief but very accurate information Many thanks for sharing this one. A must read article!

  38. Hello there I am so happy I found your blog page, I really found you by mistake, while I was searching on Askjeeve for something else, Anyhow I am here now and would just like to say thank you for a incredible post and a all round thrilling blog (I also love the theme/design), I don’t have time to look over it all at the minute but I have saved it and also added in your RSS feeds, so when I have time I will be back to read much more, Please do keep up the superb job.

  39. I don’t know if it’s just me or if everyone else experiencing problems with your website. It seems like some of the text within your posts are running off the screen. Can someone else please comment and let me know if this is happening to them too? This could be a problem with my browser because I’ve had this happen before. Appreciate it

  40. I don’t know if it’s just me or if everyone else experiencing problems with your blog. It appears as if some of the text within your posts are running off the screen. Can someone else please comment and let me know if this is happening to them too? This might be a problem with my web browser because I’ve had this happen before. Thanks

  41. you are actually a excellent webmaster. The website loading pace is incredible. It sort of feels that you are doing any unique trick. In addition, The contents are masterwork. you’ve done a fantastic job in this topic!

  42. Hiya, I am really glad I’ve found this information. Nowadays bloggers publish only about gossips and net and this is actually irritating. A good site with exciting content, that’s what I need. Thanks for keeping this web-site, I will be visiting it. Do you do newsletters? Can not find it.

  43. What¦s Taking place i am new to this, I stumbled upon this I’ve found It absolutely useful and it has aided me out loads. I hope to contribute & assist other users like its helped me. Great job.

  44. Unquestionably believe that which you said. Your favorite justification appeared to be on the web the easiest thing to take note of. I say to you, I certainly get irked even as other folks think about concerns that they just don’t understand about. You managed to hit the nail upon the highest and also defined out the entire thing with no need side effect , other folks could take a signal. Will probably be back to get more. Thanks

  45. You could definitely see your enthusiasm within the work you write. The world hopes for even more passionate writers such as you who are not afraid to say how they believe. Always follow your heart.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *