13 अक्टूबर की इतिहास की कुछ महत्वपूर्ण घटनाएं|

1792 को व्हाइट हाउस की नींव रखी गई। निर्माण पूरा होने के बाद यह इमारत एक नवंबर 1800 से अमेरिका के राष्ट्रपति का आधिकारिक आवास है|

1911 को स्वामी विवेकानंद की शिष्या मार्गेरेट एलिजाबेथ नोबेल का मात्र 43 वर्ष की आयु में निधन। उन्हें उनके गुरु ने सिस्टर निवेदिता का नाम दिया था। उन्होंने भारत में स्वामी विवेकानंद के विचारों के प्रसार के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया था।

1943 को इटली ने जर्मनी के खिलाफ युद्ध की घोषणा की।

1976 को बोलिविया के दक्षिण में एक ‘बोइंग 707’ के दुर्घटनाग्रस्त होकर रिहाइशी इलाके में गिरने से कई लोगों की मौत।

1987को रुपहले पर्दे के सबसे चमकदार सितारों में शुमार किशोर कुमार का निधन।

1999 को अटल बिहारी वाजपेयी तीसरी बार देश के प्रधानमंत्री बने|

2010 को चिली के अटाकामा रेगिस्तान में धंसी खान में फंसे 69 श्रमिकों को काफी मशक्कत के बाद सकुशल बाहर निकाला गया।

2013 को मध्य प्रदेश के दतिया जिले में एक पुल पर भगदड़ मचने से 109 लोगों की मौत।

2016 को अमेरिका के गायक एवं गीतकर बॉब डिलन को साहित्य के लिए नोबेल पुरस्कार दिया गया |

Please Share Via ....

Related Posts

12 thoughts on “13 अक्टूबर की इतिहास की कुछ महत्वपूर्ण घटनाएं|

  1. You could certainly see your enthusiasm in the paintings you write. The arena hopes for even more passionate writers such as you who are not afraid to say how they believe. All the time go after your heart. “No man should marry until he has studied anatomy and dissected at least one woman.” by Honore’ de Balzac.

  2. Just wish to say your article is as amazing. The clearness in your post is simply nice and i could assume you’re an expert on this subject. Well with your permission allow me to grab your feed to keep up to date with forthcoming post. Thanks a million and please carry on the gratifying work.

  3. Its superb as your other content : D, appreciate it for posting. “There’s no Walter Cronkite to give you the final word each evening.” by William Weld.

  4. An interesting discussion is worth comment. I think that you should write more on this topic, it might not be a taboo subject but generally people are not enough to speak on such topics. To the next. Cheers

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *